२ श्रावण २०८१, बुधबार

बाढी पीडितका गुनासा, गीतमार्फत्